Shri Jagannath Puri Temple



About Jagannath Temple in Odisha, Review, History, Facts & Photo


Jagannath temple information, Sri Jagannath Temple is located in the city of Puri in the Indian state of Orissa, dedicated to Lord Jagannath, who is a form of Vishnu. Sri Jagannath Temple is an important Hindu temple. This famous temple was built by Anantavarman Chodaganga Deva, the first king of the Eastern Ganga Dynasty, and the temple was rebuilt around the 10th century. The holy Char Dham along with Badrinath, Dwarka, and Rameswaram is included in the yatra.


Jagannath Temple, dedicated to Lord Vishnu is one of the four sacred places (Char Dham) in India. Inside the main temple are placed idols of Lord Balabhadra (brother) and Goddess Subhadra (sister), along with the idol of Lord (Krishna) Jagannath. Jagannath temples are the pride of India, one of the oldest temples is Jagannath temple dating back to the 10th century and it is a magnificent temple dedicated to Lord Vishnu. This wonderful temple is also known as Jagannath Puri. This temple is an important Hindu temple for Hindus.


The historic Sri Jagannath Temple of Puri is famous not only in India but also in the world for its annual Jagannath Rath Yatra, or Rath Utsav, it is the most revered pilgrimage site for Hindus, a chariot is built in this festival and that chariot is well maintained The chariot is decorated with Balabhadra, Subhadra with the idol of Lord Jagannath Ji, and this chariot is drawn by devotees and the whole chariot is visited, thousands to pull this holy chariot. Devotees gather. Balabhadra, Subhadra, and Lord Jagannath Ji, riding on chariots, gather huge crowds of devotees to get a good glimpse. Rath Yatra is celebrated with great pomp and show. The colorful surroundings of pilgrims, interesting rituals, enthusiasm, and enthusiasm are worth seeing.



Non-Hindu entry into the Sri Jagannath Dham is prohibited. From the terrace of the Raghunandan Library, located right in front of the temple, one can see the view of this grand temple which looks very beautiful and delightful. This ancient and wonderful temple is sacred among all Hindus. Many great saints were also associated with Shri Jagannath Temple, among them were great saints like Ramanand and Ramanuja. Ramanuja established a monastery near the temple named Imar and Adi Shankaracharya established the Govardhan Math near the temple, which is one of the four Shankaracharyas.


What is the height of Shri Jagannath's temple?

The temple of Shri Jagannath situated in the entire city of Odisha is the famous and tallest among the existing temples. The height of the amazing and historic Shree Jagannath temple is about 65 meters (214 ft).


What is special about the Puri Jagannath temple?


Sri Jagannath Temple has many interesting facts and mysteries that no scientist could solve to date, but still, Shri Jagannath Temple of Puri is famous all over India for its annual Rath Yatra,

Time to open Shri Jagannath Puri temple?


The temples are open to devotees all days of the week, from 5.30 am to 10 pm

Sri Jagannath Puri Temple Entrance Fee?

Entrance fees to this temple are free


Who built the Puri temple?

Sri Jagannath Puri Temple is one of the most influential temples in the Indian state of Odisha, Puri Temple was built by Sri Anant Varman Chodaganga Dev Ji in the 12th century by the sea.

Some shocking facts and secrets of Sri Jagannath Temple in Puri!


The famous Jagannath Hindu temple of Puri in Odisha is a prominent place for devotees. It is one of the Char Dham pilgrimage sites of India, Shri Jagannath Temple is one such temple that is beyond science and man's thinking, many scientists came and went to this amazing temple but those secrets found in this temple are known. Could not apply, if not divine supernatural power, what else? People believe that this mystery is really a blessing of Lord Jagannath. Which no scientist of the world could find out, we will try to find out about some of those mysteries in Puri's Sri Jagannath temple.


The flag above the temple flies against the wind


The flag above the Shri Jagannath temple is interesting and secret in itself, every child knows that if a piece of paper is tossed in the air, it will fly in the direction of the wind! But it seems that the flag on the top of the Jagannath temple is an exception to the principle. The flag above the Shri Jagannath temple strangely always flies in the opposite direction of the wind.


Sri Jagannath Temple "The Mystery of Sudarshan Chakra"


The Sudarshan Chakra is about 20 feet high and weighs a ton on the summit of Shri Jagannath Temple! There are two mysteries in the form of this Sudarshan Chakra, first, how was the Sudarshan Chakra so heavy at that time taken without any technology? The second interesting thing about this chakra is that one can see it from any direction or corner, it looks the same, it seems that there are supernatural powers, without which it is not possible.


No bird and aircraft flying above Shri Jagannath temple

We have often seen that birds are seen flying in the sky all the time, there are no restrictions for them! But you will be surprised to know that no birds fly above Shri Jagannath temple or even planes do not fly above this temple. You will not see a single bird above the dome of the temple. This is still a huge mystery in itself.


Structure of Shri Jagannath Temple and light without darkness

The structure of the temple is so amazing that there is no shadow at any time of the day. Can it not be called a divine miracle or a blessing of Lord Jagannath


The secret of Jagannath temple to Singhdhwaram?

Sri Jagannath Temple has a total of four gates, devotees have to go through the main gate to enter the temple, this main gate is named Singhadhwaram. When you enter the temple through Sindhudvaram, you can clearly hear the sound of the waves, but as soon as you pass the gate the sound of the waves stops, in fact, until you get inside the temple Yes, you will not hear the sound of waves.


The mystery of the sea, 


In any part of the world, the air comes from the sea during the day and vice versa in the evening. But the opposite happens in Puri.

Changing an 1800-year-old flag


The flag on the dome of Shri Jagannath temple has to be changed every day, for this every day a priest climbs over the temple, this height is almost as high as a 45-storey building. This ritual dates from the day the temple was built. It is believed that if this ritual is ever missed, the temple will remain closed for the next 18 years.

Prasad's secret


In the Shri Jagannath temple, nothing is ever reduced and wasted. Records show that every day thousands of devotees come to the temple to visit. The amount of prasad cooked in the temple remains the same throughout the year. The number of devotees keeps on decreasing - yet, Prasad never falls short nor is wasted.

Magical methods or techniques for cooking and preparing offerings


Seven pots are used to make or cook prasad in Sri Jagannath temple, these 7 pots are cooked by placing one on top of the other. It is interesting that on top of this, the contents of the utensil are first cooked, the priests here are responsible for cooking and preparing the prasad.


Gundicha Temple in Puri 

Gundicha Temple
Image Source


Sri Gundicha Temple is located 3 km northeast of Sri Jagannath Temple. The last destination of the annual Rath Yatra of Sri Jagannath is the Gundicha Temple. This famous and ancient temple has two gates for entry. Lord Jagannath ji from the western gate enters the temple during the Rath Yatra and departs from the eastern gate. Lord Jagannath stays for 9 days with Balabhadra and sister Subhadra in Sri Gundicha Temple. The huge beautiful garden spread around the temple is the main attraction of the temple, hence it is also called Jagannathji's Garden House and Puri's Vrindavan. The facade of Gundicha temple built of light brown sandstone is very beautiful and amazing.





पुरी ओडिशा में जगन्नाथ मंदिर - भारत में सर्वश्रेष्ठ मंदिर

श्री जगन्नाथ मंदिर भारत देश के उड़ीसा राज्य के पुरी शहर में स्थित हैं , यह मंदिर  जगन्नाथ भगवान् को समर्पित जो की विष्णु के एक रूप हैं। श्री जगन्नाथ मंदिर एक महत्वपूर्ण हिंदू मंदिर है।  इस प्रशिद्ध मंदिर का निर्माण पूर्वी गंगा वंश के पहले राजा अनंतवर्मन चोडगंगा देव द्वारा करवाया गया था, और मंदिर का पुनर्निर्माण 10 वीं शताब्दी के करीब किया गया। बद्रीनाथ, द्वारका और रामेश्वरम के साथ पवित्र चार धाम यात्रा में शामिल है।


भगवान विष्णु को समर्पित यह मंदिर भारत के चार पवित्र स्थानों (चार धाम) में से एक है। मुख्य मंदिर के अंदर भगवान (कृष्णा) जगन्नाथ की मूर्ति के साथ, भगवान बलभद्र (भाई) और देवी सुभद्रा (बहन) की मूर्तियों को रखा गया है। जगन्नाथ मंदिर भारत का गौरव हैं, सबसे पुराने मंदिरों में से एक जगन्नाथ मंदिर 10 वीं शताब्दी का है और यह भगवान विष्णु को समर्पित एक भब्य मंदिर है। इस अद्भुत मंदिर को  जगन्नाथ पुरी के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर हिन्दुओ का महत्वपूर्ण हिंदू मंदिर है। 

पुरी का ऐतिहासिक श्री जगन्नाथ मंदिर अपनी वार्षिक रथ यात्रा, या रथ उत्सव के लिए पुरे भारत ही नहीं विश्व में भी प्रसिद्ध है, यह हिंदुओं के लिए सबसे श्रद्धेय तीर्थ स्थल है, इस उत्सव में एक रथ बनाया जाता हैं और उस रथ को अच्छी तरह से सजाया जाता हैं, रथ पर बलभद्र, सुभद्रा के साथ भगवान जगन्नाथ जी की मूर्ति रखी जाती हैं, और इस रथ को भक्तो द्वारा खींचा जाता हैं और पुरे पूरी में इस रथ को भ्रमण करवाया जाता हैं, इस पवित्र रथ को खींचने के लिए हजारों भक्त इकठ्ठा होते हैं। रथों पर सवार बलभद्र, सुभद्रा और भगवान जगन्नाथ जी एक अच्छी झलक पाने के लिए भक्तो की अपार भीड़ इकठ्ठा होती हैं। रथयात्रा विशाल धूम धाम से मनाई जाती है। तीर्थयात्रियों का रंगीन परिवेश, दिलचस्प अनुष्ठान, उत्साह और जोश देखने लायक है।


श्री जगन्नाथ मंदिर में गैर-हिंदू प्रवेश वर्जित हैं । मंदिर के ठीक सामने स्थित रघुनंदन लाइब्रेरी की छत से इस भव्य मंदिर के दृश्य को देखा जा सकता हैं जो की बहुत ही सूंदर और रमणीय दिखता हैं । इस प्राचीन और अद्भुत मंदिर सभी हिंदुओं में पवित्र है। श्री जगन्नाथ मंदिर से कई महान संत भी जुड़े हुए थे, उनमे से रामानंद और रामानुज जैसे महान संत भी थे। रामानुज जी ने मंदिर के पास एक मठ की स्थापना की थी जिसका नाम इमर था और आदि शंकराचार्य जी ने गोवर्धन मठ की स्थापना की मंदिर के पास ही की थी , जो चार शंकराचार्यों में से एक है। 

श्री जगन्नाथ का मंदिर की ऊँचाई कितनी है?


उड़ीसा के पूरी शहर में स्थित श्री जगन्नाथ का मंदिर मौजूदा मंदिरों में सबसे ऊंचा और प्रशिद्ध है। अद्भुत और ऐतिहासिक श्री जगन्नाथ का मंदिर की उचाई लगभग 65 मीटर (214 फीट) हैं 


पुरी जगन्नाथ मंदिर के बारे में क्या खास है?


श्री जगन्नाथ मंदिर में बहुत ऐसे रोचक तथ्य और रहस्य हैं कि जिसका समाधान आज तक किसी वैज्ञानिक ने नहीं निकाल सका, लेकिन फिर भी पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर अपनी वार्षिक रथ यात्रा के लिए पुरे भारत में प्रसिद्ध है, 

श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर खुलने का समय?


मंदिर सप्ताह के सभी दिन भक्तो के लिए खुले रहते हैं , सुबह 5.30 बजे से रात 10 बजे तक

श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर प्रवेश शुल्क ?


इस मंदिर में प्रवेश शुल्क नि: शुल्क हैं 

पुरी में श्री जगन्नाथ मंदिर के कुछ चौंकाने वाले तथ्य और रहस्य !


ओडिशा के पुरी का प्रसिद्ध जगन्नाथ हिन्दू मंदिर भक्तों के लिए एक प्रमुख स्थान है। यह भारत के चार धाम तीर्थ स्थलों में से एक है, श्री जगन्नाथ मंदिर एक ऐसा मंदिर हैं जंहा विज्ञानं और आदमी की सोच से परे हैं, इस अद्भुत मंदिर पर बहुत सारे वैज्ञानिक आये और चले गए लेकिन इस मंदिर में होने वाले उन रहस्यों का पता नहीं लगा सके, यह एक दैवी अलौकिक शक्ति नहीं तो और क्या हैं? लोगों का ऐसा मानना ​​है कि ये रहस्य वास्तव में भगवान जगन्नाथ का आशीर्वाद है। जिसका पता दुनिया का कोई भी  वैज्ञानिक नहीं लगा सके, हम पुरी के श्री जगन्नाथ मंदिर में होने वाले कुछ उन्ही रहस्यों के बारे में जानने की कोसिस करेंगे। 

मंदिर के ऊपर लगा झंडा हवा के विपरीत उड़ना

श्री जगन्नाथ मंदिर के ऊपर का झंडा अपने आप में एक रोचक और रहस्य हैं, हर एक बच्चे को मालूम हैं की हैं की कागज का एक टुकड़ा यदि हवा में उछाला जाय तो वह हवा के दिशा में ही उड़ेगा ! लेकिन ऐसा लगता हैं कि जगन्नाथ मंदिर की चोटी पर लगा झंडा सिद्धांत का अपवाद है। श्री जगन्नाथ मंदिर के ऊपर का झंडा अजीब तरह से हमेशा हवा की विपरीत दिशा में उड़ता है। 

श्री जगन्नाथ मंदिर "सुदर्शन चक्र का रहस्य" 


श्री जगन्नाथ मंदिर के शिखर पर सुदर्शन चक्र करीब 20 फीट ऊंचा और एक टन वजन है ! इस सुदर्शन चक्र के रूप में दो रहस्य हैं, पहला उस समय में बिना किसी तकनिकी के इतना भारी भरकम सुदर्शन चक्र कैसे ले जाया गया ? दूसरा इस चक्र के बारे में दिलचस्प बात यह है कि इसे किसी भी दिशा या कोने से देख सकते हैं  यह समान रूप से ही दिखता है, ऐसा लगता हैं की यंहा अलौकिक शक्ति हैं इसके बिना यह सम्भव नहीं हैं।   


श्री जगन्नाथ मंदिर के ऊपर किसी पक्षी और विमान का न उड़ना 

 हमने अक्सर देखा हैं की पक्षि हर समय आकाश में उड़ते हुए दिखाई देते हैं , उनके लिए कोई सिमा प्रतिबंधित नहीं हैं ! लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि श्री जगन्नाथ मंदिर के ऊपर कोई पक्षी नहीं उड़ते यंहा तक की इस मंदिर के ऊपर से विमान भी नहीं उड़ते हैं। मंदिर के गुंबद के ऊपर एक भी पक्षी आपको देखने को नहीं मिलेगा। अपने आप में यह एक बहुत बड़ा रहस्य बना हुआ हैं, 


श्री जगन्नाथ मंदिर की संरचना व बिना अंधेरे वाला प्रकाश


मंदिर की बनावट ऐसी अद्भुत हैं कि दिन के किसी भी समय पर छाया नहीं पड़ता  है। क्या इसे ईश्वरीय चमत्कार या भगवान जगन्नाथ का आशीर्वाद नहीं कहा जा सकता ?


जगन्नाथ मंदिर का सिंहध्वरम का रहस्य ?


श्री जगन्नाथ मंदिर में कुल चार दरवाजे हैं, मंदिर में प्रवेश करने के लिए भक्तो को मुख्य द्वार से गुजरना पड़ता है, इस मुख्य द्वार का नाम सिंघाध्वरम हैं।  जब आप सिंधुद्वारम के माध्यम से मंदिर में प्रवेश करते हैं, तो आप स्पष्ट रूप से तरंगों की आवाज़ सुन सकते हैं, लेकिन जैसे ही द्वार को पार करते हैं तो तरंगों की ध्वनि बंद हो जाती हैं , वास्तव में, जब तक आप मंदिर के अंदर हैं, तब तक आपको तरंगों की आवाज़ नहीं सुनाई देगी।


समुद्र का रहस्य, ब्रीज का रिवर्स गियर 


दुनिया के किसी भी हिस्से में, दिन के समय समुद्र से हवा आती है और शाम को विपरीत होती है। लेकिन पुरी में इसके विपरीत होता हैं।  

1800 साल पुरानी एक रस्म झंडे को बदलना 


श्री जगन्नाथ मंदिर के गुम्बद पर लगा झंडा हर दिन बदलना पड़ता हैं, इसके लिए हर दिन एक पुजारी मंदिर के ऊपर चढ़ता है, यह उचाई करीब 45 मंजिला इमारत जितना ऊंचा है। यह अनुष्ठान उस दिन से है जिस दिन मंदिर का निर्माण हुआ था।  यह माना जाता है कि यदि यह अनुष्ठान कभी छूट जाता है, तो मंदिर अगले 18 वर्षों तक बंद रहेगा।

प्रसाद का रहस्य


श्री जगन्नाथ मंदिर में कभी कुछ भी कुछ कम और व्यर्थ नहीं जाता। रिकॉर्ड बताते हैं कि मंदिर में हर दिन हजारो और लाखो की शंख्या में भक्त दर्शन करने के लिए आते  हैं। मंदिर में पकाया जाने वाला प्रसाद की मात्रा पूरे साल भर एक ही रहती है। भक्तो की शंख्या घटती - बढ़ती रहती हैं, फिर भी, प्रसाद कभी भी न तो कम पड़ता हैं और न ही बर्बाद होता है। 

प्रसाद पकाने व बनाने के लिए जादुई तरीके या तकनीक


श्री जगन्नाथ मंदिर में प्रसाद बनाने या पकाने के लिए सात बर्तनों का इस्तेमाल किया जाता हैं , इन 7 बर्तनों को एक के ऊपर एक रख कर पकाया जाता हैं। दिलचस्प यह हैं की सबसे ऊपर बर्तन की सामग्री सबसे पहले पक जाती है, प्रसाद पकाने व बनाने की जिम्मेदारी यहां के पुजारियों की हैं।