Ramanathaswamy Temple Tamilnadu
Image Source

Jyotirlinga in Tamilnadu


Ramanathaswamy temple Tamilnadu,Timing, Darshan, History & Images, Rameswaram is a city in the Ramanathapuram district in the Indian state of Tamil Nadu. Along with Varanasi, it is considered one of the holiest places for Hindus in India, and is part of the Char Dham pilgrimage.



According to the Puranas, Purushottam King Rama worshiped Shiva and set up Shiva Linga to rescue his wife Sita from Ravana and climb over Lanka, after that with the help of his army a bridge over the sea (Ram Sethu) Was constructed. Ramanathaswamy Temple is dedicated to Lord Shiva, this temple is a center of attraction in the city of Tamil Nadu.


You always get to see a crowd of devotees and devotees in this city. For those who are spiritually connected, Rameswaram temples are nothing short of heaven. This place has become a favorite place for tourists. This temple and city is considered a sacred pilgrimage site for Hindus.


This temple is one of the few temples in India built entirely in the Dravidian architectural style. The temple attracts tourists due to its architecture. This world famous temple is famous all over India for its architecture and spiritual. The Rameswaram Temple, also known as the Ramanathaswamy Temple, is dedicated to Lord Shiva. It is one of the sacred 12 Jyotirlinga temples in India.

History of Rameswaram Temple

According to the Puranas, when Lord Rama killed Ravana to save his wife Sita, Ravana was a Brahmin. Lord Rama along with his wife and brother worshiped Lingam on the advice of the sages to get rid of the blame for killing Brahma.


Maha Shivaratri is the main festival celebrated with great pomp and fervor at the Ramanathaswamy temple, on this day the temple is crowded with devotees. Lord Chhaki is released through the chariots on the streets of the city and people are gathered to see it.

Rameswaram temple entrance fee and time

Temple opening and worship time: 

5:00 AM to 1:00 PM
3:00 PM to 9:00 PM

Time of regular worship aarti and arathana


  • 5:00 am - Paliyara Deepa Arathana
  • 5:10 am - Spodigalinga Deepa Arathana
  • 5:45 am - Thiruvanantha Deepa Arathana
  • 7:00 am - Villa Puja
  • 10:00 am - Kalasanti Puja
  • 12:00 pm - Uchikala Pooja
  • 6:00 pm - Poorachara Pooja
  • 8:30 pm - Earthjama Puja
  • 8:45 pm - Paliyaraya Pooja

The following values have to be paid for participating in special aarti, puja and rituals


  • 1000 for 108 Kalasa Abhishegam
  • 1000 Bharti rupees for 108 Sangebishgam
  • 1500 bharti rupee for rudrabhisagam
  • 1000 Indian Rupees for Panchthirtha Abhishek
  • 200 Indian Rupees for Swami Sahasranam Archanai
  • 200 Indian Rupees for Ambal Sahasranam Archanai
  • 200 Indian Rupee for Swami Nagpranam
  • 200 Indian Rupee for Ambal Kavasam

How to reach Rameswaram Temple

Rameswaram temple is located in the center of Rameswaram city. Can be reached by almost all modes of transport. Auto rickshaws are the major source of transport within the city and it is easy to travel from auto to temple.

If you want to travel very comfortably, you can hire a taxi or car.

Here are some of the top tourist places to see and visit in Rameswaram.

By the way, Rameswaram is a favorite place for tourists, and there are many places to visit, below are a list of some of the major places.


  • Kunthu period beach
  • Glass boat ride on Pamban Bridge
  • Unknown
  • Laxman tirtham
  • Villaundi Tirtham
  • Hanuman temple with five mouths
  • Aryman beach
  • Annai Indira Gandhi Road Bridge
  • Sea World Aquarium
  • Glass boat ride on Pamban Bridge
  • Thiruppullani
  • Water bird sanctuary
  • Kothandaramaswamy Temple
  • Panchmukhi Temple
  • Dhanushkodi Temple
  • Nambu Nayaki Amman Temple
  • Gandhamadan parvatham

How long does it take to visit the Rameswaram temple?


The Rameswaram temple takes at least an hour to visit. But during holidays, festivals and other occasions it may take a little longer to visit.

Is there a dress code in Rameswaram temple?

Rameswaram Hindu temple does not follow any special dress code for devotees. However, jeans are not allowed in the Rameswaram temple.

What is the best time to visit Rameswaram?

Rameswaram is the most popular tourist destination of Tamil Nadu, you can visit the world famous temple anytime, this temple is always ready to welcome the devotees. Nevertheless, the best time to visit Rameswaram is from September to March.

What is special about Rameswaram Temple?


Ramanathaswamy Temple is a famous Hindu temple dedicated to Lord Shiva. The temple is one of the 12 Jyotirlinga shrines, where Shiva is worshiped with complete ritualistic legislation. The temples are known throughout India for their longest corridor.

Is mobile and camera allowed in Ramanathaswamy temple?


Ramanathaswamy Temple is a high security area. No electronic items such as mobiles, camera laptops are allowed in this Shiva temple,

Is bathing in Rameswaram mandatory?


Ramanathaswamy Shiva is required to bathe before entering the Hindu temple, it is believed that after bathing in the holy lake, it is very beneficial to see Shiva. According to the legend, Lord Rama, the Vishnu incarnation, had requested Samudra Dev to remain calm in Rameswaram, so the waves of the sea are not seen in Rameswaram, the sea comes here and becomes completely calm.

How many days are enough in Rameswaram?


It is sufficient to be able to visit all the major scenic and pilgrimage sites of Rameswaram within 2 to 3 days.

What is famous in Rameswaram? What is Rameswaram famous for?


Rameswaram Shiva Temple is famous for being one of the twelve Jyotirlingas.

Which temple is famous in Rameswaram?


Ramanathaswamy Temple is a Hindu temple dedicated to Lord Shiva located on Rameswaram Island in Rameswaram. This temple of Tamil Nadu state is a popular favorite place.

What is the height of Rameswaram Shiva temple?


The height of the Rameswaram Shiva temple is about 174 ft m (53 m).

Sri Ramanathaswamy Temple Rameswaram Time

Sri Ramanathaswamy Rameswaram Hindu Temple for devotees
Open from 5:00 am to 1:00 pm and 3:00 pm - 9:00 pm.





यह लेख रामेश्वरम मंदिर तमिलनाडु भारत के बारे में है।

रामेश्वरम भारतीय राज्य तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में एक शहर है। वाराणसी के साथ, यह भारत में हिंदुओं के सबसे पवित्र स्थानों में से एक माना जाता है, और चार धाम तीर्थ यात्रा का हिस्सा है।

पुराणों के अनुसार पुरषोत्तम राजा राम ने अपनी पत्नी सीता को रावण से छुड़ाने और लंका के ऊपर चढाई करने के लिए भगवान राम ने शिव की पूजा और शिव लिंग के स्थापना की थी उसके उपरांत अपनी सेना के मदद से समुद्र के ऊपर एक पुल (रामसेतु) का निर्माण करवाया था।


रामनाथस्वामी मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, तमिलनाडु शहर में यह मंदिर एक आकर्षण का केंद्र है। प्रयटक और भक्तो की भीड़ आपको इस शहर में सदैव देखने को मिलती हैं। जो लोग आध्यात्मिक से जुड़े हुए हैं उनके लिए रामेश्वरम मंदिर किसी स्वर्ग से कम नहीं हैं। यह स्थान टूरिस्टो के लिए एक पसंदीदा स्थान बन चूका हैं। यह मंदिर और शहर हिन्दुओ के लिए एक पवित्र तीर्थ स्थल माना जाता है।


यह मंदिर भारत के कुछ मंदिरों में से एक है जो पूरी तरह से द्रविड़ स्थापत्य शैली में बनाया गया है। मंदिर अपनी वास्तुकला के कारण पर्यटकों को आकर्षित करता है। इस विश्व प्रशिद्ध मंदिर अपने वास्तुकला और आध्यात्मिक के लिए पुरे भारत में प्रशिद्ध हैं। रामेश्वरम मंदिर को रामनाथस्वामी मंदिर भी कहा जाता है, भगवान शिव को समर्पित है। यह भारत के पवित्र 12 ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक है।

रामेश्वरम मंदिर का इतिहास

पुराणों के अनुसार भगवान राम ने अपनी पत्नी सीता को बचाने के लिए जब रावण का वध किया था और रावण एक ब्राह्मण था।  ब्रम्ह हत्या दोष से मुक्त होने के लिए  ऋषियों की सलाह पर भगवान राम ने अपनी पत्नी और भाई के साथ लिंगम की पूजा की।

रामानाथस्वामी मंदिर में महा शिवरात्रि बड़ी धूमधाम और उत्साह से मनाए जाने वाला प्रमुख त्योहार हैं, इस दिन मंदिर में भक्तो की भीड़ अपने चरम पर होती हैं। शहर की सड़कों पर रथों के माध्यम से भगवान छाकी निकली जाती हैं जिसे देखने के लिए लोगो बड़ा हुजूम इकठ्ठा होता हैं।  

रामेश्वरम मंदिर का प्रवेश शुल्क और समय 

मंदिर खुलने और पूजा का समय :-



  • 5:00 बजे सुबह से 1:00 बजे दोपहर तक
  • 3:00 बजे शाम से 9:00 बजे रात तक
  • नियमित पूजा आरती और अरथना का समय 
  • सुबह 5:00 बजे -पलियाराय दीपा अरठाना
  • सुबह 5:१० बजे  -स्पॉडिगालिंगा दीपा अरथाना 
  • सुबह 5:45 बजे - तिरुवनंतल दीपा अरथाना  
  • सुबह 7:00 बजे - विला पूजा 
  • सुबह 10:00 बजे - कलासन्ती पूजा 
  • दोपहर 12:00 बजे - उचिकाला पूजा 
  • शाम 6:00 बजे - सायराचार पूजा 
  • रात्रि 8:30 बजे - अर्थजामा पूजा 
  • रात्रि 8:45 बजे - पलियाराय पूजा

विशेष आरती, पूजा और अनुष्ठान में भाग लेने के लिए निम्नलिखित मूल्य देने होंगे 


  • १०८  कलसा अभिशेगम के लिए १००० 
  • 108 संगीबिश्गम के लिए 1000 भारती रुपया  
  • रुद्राभिषगम के लिए १५०० भारती रुपया  
  • पंचतीर्थ अभिषेक के लिए १००० भारतीय रुपया 
  • स्वामी सहस्रनाम अर्चनाई के लिए  २०० भारतीय रुपया 
  • अम्बल सहस्रनाम अर्चनाई के लिए  २०० भारतीय रुपया 
  • स्वामी नागप्रनाम के लिए  २०० भारतीय रुपया 
  • अम्बल कावसम के लिए  200 भारतीय रुपया 

रामेश्वरम मंदिर कैसे पहुँचें

रामेश्वरम शहर के केंद्र में रामेश्वरम मंदिर स्थित है।  परिवहन के लगभग सभी साधनों द्वारा पहुँचा जा सकता है। ऑटो रिक्शा शहर के अंदर परिवहन के प्रमुख स्रोत हैं और ऑटो से मंदिर तक यात्रा करना आसान है। 

यदि आप बहुत आराम से यात्रा करना चाहते हैं, तो आप टैक्सी या कार किराए पर ले सकते हैं।

रामेश्वरम में देखने और घूमने के लिए यहां कुछ शीर्ष पर्यटन स्थल हैं।

यहाँ रामेश्वरम में देखने और यात्रा करने के लिए कुछ शीर्ष पर्यटक स्थल जो आकर्षण का केंद्र हैं
वैसे तो रामेश्वरम टूरिस्टों के लिए एक पसंदीदा जगह हैं, और यंहा घूमने के लिए बहुत सारे स्थान हैं , कुछ प्रमुख स्थानों की लिस्ट निचे दी गयी हैं



  • कुंथु काल बीच
  • पम्बन ब्रिज पर ग्लास बोट की सवारी
  • अगनितीर्थम 
  • लक्ष्मण तीर्थम
  • विलौंडी तीर्थम
  • पांच मुंह वाला हनुमान मंदिर
  • अर्यमन बीच
  • अन्नाई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज
  • सी वर्ल्ड एक्वेरियम
  • पम्बन ब्रिज पर ग्लास बोट की सवारी
  • थिरुप्पुल्लानी 
  • जल पक्षी अभयारण्य
  • कोठंडारामस्वामी मंदिर
  • पंचमुखी मंदिर
  • धनुषकोडि मंदिर
  • नंबू नयकी अम्मन मंदिर
  • गंधमादन परवथम्

रामेश्वरम मंदिर में दर्शन के लिए कितना समय लगता है?


रामेश्वरम मंदिर में दर्शन के लिए कम से कम एक घंटे का समय लगता है। लेकिन छुट्टियों,  त्योहारों और अन्य अवसरों के दौरान दर्शन के लिए  थोड़ा ज्यादा समय लग सकता हैं। 

क्या रामेश्वरम मंदिर में कोई ड्रेस कोड है?


रामेश्वरम हिन्दू मंदिर में भक्तो के लिए  किसी प्रकार का विशेष ड्रेस कोड का पालन नहीं किया जाता है। लेकिन, रामेश्वरम मंदिर में जींस की अनुमति नहीं है। 


रामेश्वरम जाने के लिए सबसे अच्छा समय क्या है?


रामेश्वरम तमिल नाडु का सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल हैं, यह विश्व प्रशिद्ध मंदिर में आप कभी भी दर्शन करने के लिए जा सकते हैं, यह मंदिर सदैव भक्तो के स्वागत करने के लिए तैयार रहता हैं। फिर भी रामेश्वरम में घूमने का सबसे अच्छा समय सितम्बर से मार्च तक का है। 

रामेश्वरम मंदिर के बारे में क्या खास है?


भगवान शिव को समर्पित रामनाथस्वामी मंदिर एक प्रसिद्ध हिंदू मंदिर है। मंदिर 12 ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक है, जहाँ शिव की पूजा पुरे विधि विधान के साथ की जाती हैं। मंदिर अपने सबसे लंबा गलियारा के लिए पुरे भारत में जाना जाता हैं ।

क्या रामनाथस्वामी मंदिर में मोबाइल और कैमरा ले जाने की अनुमति है?


रामनाथस्वामी मंदिर एक उच्च सुरक्षा वाला क्षेत्र है। इस शिव मंदिर में कोई भी इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे कि मोबाइल, कैमरा लैपटॉप की अनुमति नहीं है, 

क्या रामेश्वरम में स्नान करना अनिवार्य है?


रामनाथस्वामी शिव हिन्दू मंदिर में प्रवेश करने के पहले स्नान करना जरुरी हैं , ऐसा लोगो की मान्यता हैं पवित्र सरोवर में स्नान करने के बाद शिव का दर्शन करना बहुत ही लाभ कारी होता हैं। पौराणिक कथा के अनुसार विष्णु अवतार भगवान श्री राम ने समुद्र देव से रामेश्वरम में शांत रहने का अनुरोध किया था, इसलिए रामेश्वरम में समुद्र की लहर देखने को नहीं मिलती हैं , समुद्र यहाँ आकर पूरी तरह से शांत हो जाता है।

रामेश्वरम में कितने दिन पर्याप्त हैं?


2 से 3 दिनों के भीतर रामेश्वरम के सभी प्रमुख दर्शनीय और तीर्थ स्थलों की यात्रा कर सकने के लिए पर्याप्त हैं। 

रामेश्वरम में क्या प्रसिद्ध है? रामेश्वरम किस लिए प्रसिद्ध है?


रामेश्वरम शिव मंदिर, बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक होने के लिए प्रसिद्ध है। 

रामेश्वरम में कौन सा मंदिर प्रसिद्ध है?


रामेश्वरम में रामेश्वरम द्वीप पर स्थित भगवान शिव को समर्पित रामनाथस्वामी मंदिर एक हिंदू मंदिर है। तमिलनाडु राज्य का यह मंदिर एक लोक प्रिय प्रयर्टक स्थान हैं।  

रामेश्वरम शिव मंदिर की उचाई कितनी हैं ?


रामेश्वरम शिव मंदिर की उचाई लगभग 174 फीट मीटर (53 मीटर ) हैं।